सरकार की अधूरी तैयारी की खुल रही पोल, किसानों में फैल रहा आक्रोश!

लोरमी

महेश कश्यप – धान खरीदी के लिए सरकार की अधूरी तैयारी की पोल खरीदी केन्द्र में आ रहे किसानों के सामने खुलती जा रही है।किसानों को खरीदी केंद्रों में हो रही परेशानियों से उनके बीच आक्रोश फैल रहा है।एक बार फिर लोरमी जनपद क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों ने एसडीएम को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंप कर खरीदी केंद्रों में बारदानों की व्यवस्था करने की मांग की है ।

धान खरीदी के लिए शासन प्रशासन के तैयारियों के सारे दावों की पोल खरीदी केंद्रों में किसानों के विरोध पर्दर्शन खोल रहे है।कही बारदानों की कमी तो कही धान का उठाव नही होने से जगह की कमी और उसकी से खरीदी बन्द हो गए है।किसान वैसे ही एक महीने देर से खरीदी किये जाने के कारण नाराज थे ।उसके बाद भी खरीदी केंद्रों में तरह तरह की समस्याओ से अब किसानों का धैर्य टूट गया है।लोरमी जनपद क्षेत्र में खरीदी केन्द्रों में भी बारदानों की कमी होने और किसानों से ही आधे बारदानों की मांग किये जाने से किसान आंदोलन का मन बनाते जा रहे है।एक बार फिर भाजपा जनप्रतिनिधियों और किसानों ने लोरमी एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है ,जिसमे कलेक्टर से खरीदी केंद्रों में तत्काल पर्याप बारदानों की व्यवस्था करने ,खरीदे गए धान का नियमित उठाव किये जाने,बैंकों में भुगतान के लिए अतिरिक्त काउंटर लगाने ,और खरीदी की समय सीमा बढ़ाये जाने की मांग किया है। जिला भाजपा महामंत्री गुरमीत सलूजा ने कहा कि लोरमी के सभी धान खरीदी केंद्रों से धान का उठाओ तेज गति से किया जाए ठेकेदारी अधिकारी नहीं कर पा रहा है तो अन्य वैकल्पिक साधन इस्तेमाल किया जाए। जिला विधिक प्रकोष्ठ के संयोजक अभी शर्मा ने कहा कि प्रदेश के भूपेश बघेल सरकार सोशल मीडिया में बड़ी-बड़ी बातें कर रही है लेकिन लोरमी क्षेत्र का किसान त्राहिमाम त्राहिमाम कर रहा है, यदि प्रशासन अविलंब समस्या ठीक नहीं करता है तो किसानों के साथ जन आंदोलन किया जाएगा। मंडल अध्यक्ष प्रदीप मिश्रा ने कहा कि सरकार सप्ताह के चार-पांच दिन ही खरीदी कर रही है प्रतिदिन टोकन काटना चाहिए और प्रतिदिन धान की खरीदी होना चाहिए धान खरीदी में 1 दिन का भी अवकाश नहीं होना चाहिए।ज्ञापन सौंपने वालों में गुरमीत सलूजा, अभी शर्मा,प्रदीप मिश्रा,महाजन जायसवाल, शैलेन्द्र जायसवाल, रोहित साहू ,विनय साहू सहित किसान बड़ी संख्या में साथ थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.