अशासकीय विद्यालयों ने बनाया संघ, अशासकीय स्कूलों के हितों के लिए उठायेगी आवाज।

तख़तपुर

ब्यूरो – तख़तपुर विकासखंड के अशासकीय विद्यालयों ने आपस में बैठक कर एक संघ बनाकर अपने विद्यालय के हितों की रक्षा करने का निर्णय लिया है।अभी प्राथमिक रूप से विकासखंड के विद्यालयों को जोड़कर संगठित किया जा रहा है।विकासखंड के अंतर्गत आने वाले अशासकीय विद्यालय अब अपने अधिकारों के लिए एक संगठन के नीचे आकर आवाज उठायेंगे।

तख़तपुर विकासखंड के अंतर्गत आने वाले सभी अशासकीय विद्यालय अब अपने अधिकारों और व्यवस्था के लिए एक जुट होकर कार्य करने का निर्णय लिया है।आज एक बैठक कर तख़तपुर के लगभग सभी विद्यालयों ने इसमे सहमति दी है और संघ का गठन किया है।इस संगठन का उद्देश्य शासन के सामने विद्यालय के पक्ष को रखना और व्यवहारिक रूप में विद्यालय परिस्थितियों से अवगत कराना है।साथ ही शासन के समक्ष विद्यालय के हितों के प्रतिकूल निर्णयों के प्रतिपक्ष में अपनी बात मुखरता से रखना है।इसके कार्यकारी अध्यक्ष अंकेश गुप्ता को जबकि सचिव विष्णु प्रसाद कौशिक को बनाया गया है। अध्यक्ष ने बताया कि शासन के कई निर्णय एक तरफ़ा रहते है जिसके विरोध में कोई विद्यालय अकेले खड़ा होकर अपनी बात नही रख पाता है,और यदि कोई रखता भी है तो उसे गंभीरता से नही लिया जाता है।इसके कारण विद्यालयों को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है।अभी बिलासपुर जिले में अधिकांश विद्यालयों को तीन वर्ष की प्रतिपूर्ति राशि प्राप्त नही हुई है, जबकि अन्य जिलों में वर्तमान सत्र तक कि राशि दे दी गयी है।शासन द्वारा तीन-तीन वर्ष का पैसा रोके जाने से बड़े विद्यालयों को उतना फर्क नही पड़ता होगा,लेकिन छोटे विद्यालयों के लिए विद्यालय संचालन कठीन हो गया है।इसके अलावा विद्यालयों के बीच फीस वसूली और एडमिशन को लेकर सामंजस्य स्थापित करने के उद्देश्य से यह संगठन बनाया गया है।इसमे जितने विद्यालय अभी जुड़े है वे सहर्ष संगठित हुए है,और जो नही जुड़ पाए हैं उन्हें एक दो सप्ताह में जुड़ने के लिए प्रेरित कर जोड़ लिया जाएगा।आज की मीटिंग में दिलीप तोलानी, बसंत कश्यप, विष्णु कौशिक, अंकेश गुप्ता, राकेश मिश्रा ,नंदकुमार साहू, रामकिशोर दुबे,विजयेंद्र देवांगन,अमित दुबे उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.