नितिन नवीन ने ली प्रेस वार्ता कांग्रेस सरकार पर जमकर साधा निशाना।

मुंगेली

महेश कश्यप

केन्द्र सरकार ने नये धान खरीदी का 9000 करोड़ रूपए जारी कर दिया है। परंतु आज भी किसानों से खरीदे गये धान का भुगतान छत्तीसगढ़ की भूपेष सरकार ने नही किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने छ.ग. से केन्द्रीय पुल में 60 लाख टन चावल खरीदने का फैसला किया है। ये बाते भारतीय जनता पार्टी के छत्तीसगढ़ सह प्रभारी नितिन नवीन ने प्रेस वार्ता में कही । इस अवसर पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौषिक, विधायक पुन्नूलाल मोहले ,सांसद अरूण साव भाजपा संभाग , प्रभारी कृश्ण कुमार राय , जिला प्रभारी षंकर अग्रवाल , राजेन्द्र षर्मा आदि उपस्थित रहे।


स्थानीय विश्राम भवन में आयोंजित प्रेस वार्ता में छत्तीसगढ़ भाजपा सह प्रभारी नितिन नवीन ने कहा कि छत्तीसगढ़ की प्रदेश की कांग्रेस सरकार को लेकर जनता में निराशा है।जो वादा कांग्रेस ने किया था उसे पूरे करने में विफल है। धान का एक-एक दाना खरीदने से लेकर बारदाना तक इस सरकार की विफलता किसी से छिपी नही है। पिछले सीजन का 28 लाख मैट्रिक टन चावल किस चहेते मंत्री के गोदाम में रखा है, यह सरकार को स्पष्ट करना चाहिए । पिछले वर्स्ष का 28 लाख मैट्रिक टन चावल तीन बार समय बढ़ाने के बावजूद भी राज्य सरकार जमा नही कर पाई। केन्द्र सरकार ने नए धान खरीदी का 9000 करोड़ रूपए जारी कर दिया है ।परंतु आज भी ,अब तक किसानों से खरीदे गए धान का भुगतान नही हुआ है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार ने छत्तीसगढ़ से केन्द्रीय पुल में 60 लाख टन चावल खरीदने का फैसला किया है। केन्द्र से चावल के मद 9 हजार करोड़ रूपया हाल में ही प्रदान किया गया है। ऐसे में इस निर्णय का सारा लाभ किसानों को मिले 60 लाख टन चावल के लिए 90 लाख टन धान की जरूरत होगी। यानी लगभग सारा धान सीधे केन्द्र खरीदने वाला है,फिर भी खरीदी की व्यवस्था नही कर पा रही है। कांग्रेस सरकार को चाहिए की वह किसानों का एक एक दाना धान खरीदे।उन्होंने कृषि बिल पर कांग्रेस केे रवैये को दोहरा बताया

प्रदेश सरकार के 2 साल पूरे होने पर कहा प्रदेश में पचीस हजार करोड से अधिक का कर्ज यह सरकार दो साल में ले चुकी है। अर्थव्यवस्था बदहाल है। कानून व्यवस्था चैपट । किसी को न रोजगार मिला न बेरोजगारी भत्ता मिली । विकास कार्य का पुरी तरह ठप पड़ गया है।युवाओं को बेरोजगारी भत्ता,किसानों को बुजुर्गों को पेंशन आदि पर अब शासन नेे चुप्पी साध रखी है । छत्तीसगढ़ में करीब 25 लाख युवा बेरोजगार पंजीकृत है। कांग्रेस 10 लाख बेरोजगारों को 2500 रूपये बेरोजगारी भत्ता देने के नाम से सत्ता में आई थी । लेकिन इन युवाओं को अब तक भत्ता नही मिला। एक युवक ने तो सीएम हाउस के सामने आत्मदाह कर लिया । प्रदेष में 5 हजार युवाओं को नौकरी से निकाला भी गया है।
प्रदेश: में लीकर माफिया , लैंड माफिया ,सैंड माफिया , एलीफेंट माफिया,कोल माफिया,ड्रग माफिया,जंगल माफिया ,ट्रासफर माफिया,पोस्टिंब माफिया… हर तरह का माफिया हावी है। न केवल कांग्रेस का इन सबको संरक्षण है बल्कि अनेक मामलों में स्वयं कांग्रेस के नेतागण भी शामिल है।कानून व्यवस्था प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब होती जा रही है। खुद सरकार द्वारा सदन में दी गयी जानकारी के अनुसार साल भर में 80 हजार से अधिक अपराध छत्तीसगढ़ में दर्ज किये गए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.