कहाँ टहलें नगरवासी, सड़क में धूल और प्रदूषण है तो एकमात्र गार्डन में लटका है ताला

तख़तपुर

ब्यूरो– शहर में लोगो के मनोरनजन और पर्यटन के लिए एक मात्र स्थान दीवान तालाब गार्डेन में अभी भी ताला लटका रहा है।जबकि शासन ने एक मई से ही सभी गार्डन और पार्क खोलने की अनुमति दे दी है।अब नगरवासियों के पास स्वच्छ और शुद्ध वातावरण में टहलने के लिए कोई जगह ही नही है।इसी मुद्दे को लेकर वार्ड 7 के पार्षद ईश्वर देवांगन ने आज सीएमओ और अध्यक्ष को चिट्ठी लिखकर जल्दी ही खोले जाने की मांग की है।

नगर मनोरंजक सुविधाओं के नाम पर शून्य है। यहाँ बच्चो के खेलने के लिए खेल के मैदान का अभाव है तो लोगों कें टहलने के लिए एम्यूजमेंट पार्क और गार्डेन भी नही है।नगर में गार्डन के।नाम पर एक मात्र परमेश्वरी सरोवर गार्डन(दीवान तालाब का गार्डन) भी लॉक डाउन से अब तक बंद है।जबकि शासन ने पार्क और खेल के मैदान खोले जाने का स्पष्ठ आदेश दे दिया है।फिर।भी लगभग माह भर निकलने को है परमेश्वरी गार्डन का ताला आज तक नही खुला है।इसी मुद्दे को उठाते हुए वार्ड क्रमांक 7 के पार्षद ईश्वर देवांगन ने सीएमओ और अध्यक्ष को पत्र लिखकर गार्डन को शीघ्र खोले जाने की मांग की है।पार्षद ने लिखा है कि छत्तीसगढ़ शासन के आदेश के परिपालन में नगर पालिका द्वारा गंभीरता नहीं बरतने के कारण गार्डन भ्रमण करने वाले नगर वासियों इसकी उपयोगिता से वंचित होना पड़ रहा है।लगभग दो से तीन मास के लॉक डाउन में गार्डन के बंद रहने से नियमित पर्यटकों के स्वास्थ पर गंभीर दुष्प्रभाव हुआ है, तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी आई है। डॉक्टर एवं विशेषज्ञ द्वारा ब्लड प्रेशर एवं शुगर के मरीजों को प्रतिदिन सुबह-शाम स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से पैदल चलने की सलाह दी गयी है।किंतु गार्डन के बंद रहने के कारण मजबूरी में उन्हें घर की छतों या धूल और प्रदूषण से युक्त सड़को पर पैदल चलना पड़ रहा है ,जो उनके स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने के स्थान पर विपरीत प्रभाव डाल रहा है।अतएव नियमित व्यायाम एवं वाकिंग हेतु मां परमेश्वरी गार्डन ,जो नगर का एकमात्र सर्वाधिक उपयुक्त स्थल है, तत्काल खोला जाना अति आवश्यक है। उपरोक्त गार्डन में बुजुर्ग युवा बच्चे आदि सभी वर्ग के लोग जिनका उत्तम स्वास्थ्य हेतु गार्डन में लगे विभिन्न व्यायाम यंत्रों से शरीर को फिट एवं तंदुरुस्त रखने में लाभदायक प्राप्त करते रहे है। साथ ही गार्डन में लगे विभिन्न प्रकार के पेड़ पौधे से लोगों को प्रकृति के बीच रहने का अवसर मिलता रहा है। नगर वासियों के स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से गार्डन से मिलने वाले लाभ की प्रतिपूर्ति अन्य माध्यमों से नहीं किया जा सकता है। लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा को ध्यान में रखते हुए तत्काल गार्डन को खोलने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.