बुरे फंसे प्रवासी मजदूर ,घर जा नहीं सकते भोजन के हुए लाले!

बेलगहना

रविराज रजक-दूसरे राज्यो से अपने गांव आ रहे मजदूरों की स्थिति आसमान से गिरे खजूर में अटके की तरह हो गयी है।वे दूसरे राज्यों से यहॉं तो आ गए है लेकिन क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए है,जहां उनकी सुध लेने वाला कोई नही हैं।उन्हें खाने खाने पीने की भी समस्या हो रही है ।उनके साथ साथ उनके छोटे छोटे बच्चे भी भूख से बेहाल होने को बाध्य हैं।

दूसरे राज्यो से आने वाले मजदूरों को अपने गृह राज्य में ही भूखों मरने को मजबूर होना पड़ रहा है। उनके साथ उनके बच्चे भी क्वॉरेंटाइन सेंटर के व्यवस्थापको की बेरुखी और लापरवाही के कारण भूख की त्रासदी सहने को मजबूर हो रहे हैं। अलीगढ़ से पैदल चलकर कोनचरा पहुंची पूजा ने बताया कि हम अलीगढ़ से पैदल चल कर अपने ग्राम कोनचरा 10 दिन बाद पहुंचे ।हमें सचिव द्वारा गांव से 3 किलोमीटर दूर क्वारंटाइन सेंटर में ठहराया गया और सामने गेट में ताला लगा दिया गया। रात को खाना दिया गया था,परंतु आज सुबह से यहां कोई नहीं आया और ना ही ताला खोला गया है। हमें तो कैदी से भी बदतर रखा जा रहा है। मैं सरकार से निवेदन करती हूं कि या तो सरकार खाने की व्यवस्था अच्छी कर दे या तो हमें जेल में डाल दे ।जेल में कम से कम खाना तो टाइम से मिल जाता है ।पूजा ने बताया कि मेरी डेढ़ साल की बच्ची भूख से तड़प रही है।ताला लगा होने के कारण मैं किसी के सामने जाकर अपनी समस्या भी नहीं बता सकती। जब पूजा की समस्या से चौकी प्रभारी दिनेश चंद्रा को अवगत कराया गया,तो चौकी प्रभारी ने अपने वॉलिंटियर के माध्यम से सरपंच सचिव को आदेशित किया और तत्काल खाने की व्यवस्था दुरुस्त कराया।

ग्राम पंचायत पहनदा के प्राथमिक शाला को क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है,जहाँ हैदराबाद से चलकर आये 20 ग्रामीणों को गांव पहुंचने पर ठहराया गया है। वहां ठहरे व्यक्तियों ने हमारे संवाददाता रवि राज को बताया कि हमें प्राथमिक शाला में ठहराया गया है। परंतु खाने-पीने की व्यवस्था ही नहीं की गई है ।वहीं एक गर्भवती औरत भी ठहरी हुई है।उन्होंने बताया कि रात से दोपहर हो गया किसी ने सुध नहीं ली है। मैं भूखी हूं,किसी ने चाय बिस्किट तक नहीं दिया। उन लोगों का कहना है यदि व्यवस्था नहीं कर सकते तो हमें अपने घर जाने दो।इस पर तहसीलदार महोदय एवं चौकी प्रभारी बेलगहना को अवगत कराया गया। चौकी प्रभारी एवं तहसीलदार ने तत्काल सरपंच सचिव से संपर्क साध कर वहां के लोगों को भोजन उपलब्ध कराया। वहां ठहरे सभी व्यक्तियों ने तहसीलदार एवं चौकी प्रभारी बेलगहना को धन्यवाद दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.