मानसिक अवसाद से न घबराएं, सहायता के लिए 7067667945 पर फ़ोन लगायें!

बिलासपुर

ब्यूरो –

कोरोना काल में मानसिक रोग से पीड़ित लोगों के उपचार के लिए राज्य मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सालय की टीम ने काफी अच्छा काम किया है। यहां के स्टॉफ की लगन से सभी कोरोना पॉजिटिव मानसिक रोगी भी ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। इसके बाद भी यहां लोगों को जागरूक करने के लिए अलग-अलग तरह की एक्टिविटी की जा रही है। इसी कड़ी में चिकित्सालय की जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम इकाई द्वारा जिले के लोगों के लिए एक हेल्प लाइन नंबर 7067667945 जारी किया गया है। इस नंबर पर सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच कॉल करके लोग चिंता, तनाव, अवसाद व नींद न आने जैसी परेशानियों के निदान के लिए जानकारी ले सकते हैं।


राज्य मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सालयसेंदरी बिलासपुर के मनोवैज्ञानिक डॉ. दिनेश कुमार लहरी ने बताया,“टेलीफोनिक व ओपीडी में कॉउंसलिंग के दौरान ऐसा पाया गया कि लोग कोरोना काल में मानसिक उन्माद से अधिक ग्रसित हो रहे हैं। इसका कारण उनके मन में अलग-अलग प्रकार का डर व भ्रांतियां हैं। इसे लेकर चिकित्सालय की जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम इकाई के स्टॉफ ने चिकित्साधीक्षक डॉ. बीआर नंदा से परामर्श किया और सुझाव दिया कि जिले के लोगों को इस तरह की परेशानियों से बाहर लाने के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया जाना चाहिए।“
इससे लोग निर्धारित समय में फोन करके यहां के विशेषज्ञों को अपनी परेशानी बताएंगे और उन्हें उसका निदान बताया जा सकेगा। डॉ. नंदा ने हेल्पलाइन नंबर जारी करने के सुझाव को सही मानते हुए कहा कि सुबह 10 से शाम 4 बजे तक का समय निर्धारित कर लोगों की टेलीफोनिक काउंसलिंग कर उन्हें जागरूक किया जाए। डॉ. नंदा ने बताया,“हेल्पलाइन नंबर में फोन करने वाले लोगों की पूरी जानकारी गोपनीय रखी जाती है। इसलिए लोगों को चाहे किसी भी कारण से मानसिक परेशानी क्यों न हो वह इस हेल्पलाइन नंबर पर फोन करके पूरी बात बताएं। इससे यहां के डॉक्टर उन्हें न सिर्फ सही सलाह देंगे, बल्कि यदि कोई अन्य परेशानी समझ में आई तो उन्हें उचित इलाज भी बताया जाएगा।“
डॉ. लहरी ने कहा,“कोविड सेंटर और होम साईसोलेट हुए मरीजों को मानसिक स्वास्थ्य जैसे चिंता, तनाव, अवसाद, नींद न आना जैसी समस्याएं अधिक होती हैं। ऐसे मरीजों के लिए यह हेल्पलाइन नंबर 7067667945 काफी मददगार साबित होगा।“

Leave a Reply

Your email address will not be published.