गाली गलौच और देख लेने की धमकी में सीधे न्यायलय में लगाइए गुहार,जुनापारा चौकी का मामला!

तख़तपुर

ब्यूरो- तख़तपुर थाना अंतर्गत जुनापारा चौकी के कारनामे लोगो की समझ से बाहर हो रहे है। कभी मिट्टी तेल डीजल बन रहा है तो गली गलौच और धमकी की शिकायत लेकर पहुंचे शख्स को सीधे न्यायालय का रास्ता दिखा रहे है।गाली गलौच और देख लेने की धमकी की शिकायत को पुलिस के हस्तक्षेप योग्य मामला नही मानती।

जुनापारा चौकी में जो होते दिखे कम लगेगा। यदि आपके साथ कोई गाली गलौच करे और देख लेने की धमकी दे तो आप पुलिस के पास न जाकर सीधे न्यायलय में गुहार लगाइए।यह हम नही जुनापारा चौकी की कार्यवाही बता रही है।अपने साथ गाली गलौच और देख लेने की धमकी की शिकायत को पुलिस के हस्तक्षेप आयोग्य मामला मानते हुए धारा 155 में फैना काट कर दे रहे है।पीड़ित रामेश्वर पूरी गोस्वामी ने बताया कि तालाब नीलामी की शिकायत किये जाने को लेकर जुनापारा सरपंच और उसके आरक्षक पुत्र तथा पंचों के द्वारा शिकायत करने और उनके मामले में टांग अदने पर गली गलौच के साथ देख लेने की धमकी दिया गया ।उनकी शिकायत लेकर जब जुनापारा चौकी पहुँचा तो प्रभारी द्वारा इसे पुलिस के हस्तक्षेप अयोग्य मामला बताते हुए सीआरपीसी की धारा 155 के तहत फैना काटकर दे दिया गया और न्यायालय में जाकर गुहार लगाने और सुरक्षा मांगने के लिए भेज दिया गया।मतलब यह हुआ कि अब पुलिस आपकी रिपोर्ट तब ही लिखेगी,जब आपके साथ मारपीट हों जाये या कोई अनहोनी घट जाए।धमकी चमकी जैसे मामले अब पुलिस कें हस्तक्षेप के योग्य नही और उसके लिए केवल न्यायालय में ही गुहार लगाया जा सकता है।

मामला यह है कि प्रार्थी रामेश्वर पूरी गोस्वामी पिता राजेन्द्रपूरी गोस्वामी बरगन अघरिया का रहने वाला है। उसने जनपद पंचायत तख़तपुर में ग्रामपंचायत जुनापारा के सरपंच द्वारा आश्रित ग्रामो के तालाबो को गुपचुप तरीके से नीलाम कर देने की शिकायत की थी।इसी बात को लेकर कोटवार के माध्यम से खबर भेजकर सरपंच ने प्रार्थी को बुलाया,जहाँ पर उसके साथ उसका आरक्षक पुत्र प्रीतम और अन्य पंचगण थे।सभी के द्वारा तालाब नीलामी की शिकायत को लेकर प्रार्थी को गाली गलौच करते हुए धमकी दिया गया ।इसकी शिकायत प्रार्थी रामेश्वरपुरी गोस्वामी ने जुनापारा चौकी में किया था।

इस विषय में अधिवक्ता प्रफुल्ल द्वीवेदी का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति किसी के साथ गाली गलौच करता है और देख लेने की धमकी देता है तो इसमे पुलिस को शिकायत लेकर जांच करनी चाहिए न कि फैना काटा जाना चाहिए।

इसके पूर्व एक मामले में जुनापारा चौकी के आरक्षक द्वारा लोगो के बीच पंचनामा बनाकर 80 लीटर मिट्टी तेल की जब्ती बनाया गया था।जो सुबह होते होते डीजल में बदल गया।जबकि जब्ती को लोगो के सामने पंचनामा कर बनाया गया था।फिर भी किसी को बचाने के लिए मिट्टी तेल को डीजल कर दिया गया था मामला 11 मई का है।जब एक बोलेरो अवैध परिवहन करते दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.